जीवन जीने की कला

कुछ पाने के लिए कुछ खोना नहीं कुछ करना पड़ता है।

हमारे दिमाग में एक चीज बचपन से डाल दी गयी है। वो मतलब कुछ पाने के लिए कुछ खोना पड़ता है। जब भी कभी हम कुछ पाने की कोशिश करने जाते थे तब हमें कोई न कोई टोक देते थे भाई कुछ पाने के लिए कुछ खोना पड़ता है। पर असल में ऐसा नहीं है कुछ पाने के लिए कुछ खोने की नहीं कुछ करनेकी जरुरत है। हम सदियों से ऐसे सोच के कारण कुछ पाने की तमन्ना ही नहीं कर रहे है।
कुछ करोगे तभी आप कुछ तो पाओगे सिर्फ बैठे बैठे आपको कुछ भी नहीं मिलेगा। जब हम मैदान में उतरेंगे तभी खेल पाएंगे। घर में बैठ कर हम सिर्फ खेल की बाते ही कर सकते है। कुछ करने के लीए हमेशा तत्पर रहो। कुछ करोगे तभी पाओगे। खोना है आपको आलस। अगर आलस खो दोगे तो कुछ करोगे और करोगे तो कुछ तो पा ही लोगे।

जीवन जीने की कला

Advertisements