🙊🙉🙈जीवन जिने की कला🙈🙉🙊

🌹🌹कैसे करें निगेटिव थॉट्स को पॉजिटिव में कन्वर्ट ?🌹🌹

Law Of Attraction (LOA) कहता है कि हम जो भी सोचते हैं उसे अपने जीवन में आकर्षित करते हैं, फिर चाहे वो चीज अच्छी हो या बुरी।

उदाहरण के लिए: — अगर कोई सोचता है कि वो हमेशा परेशान रहता है, बीमार रहता है और उसके पास पैसों कि कमी रहती है तो असल जिंदगी में भी ब्रह्माण्ड घटनाओं को कुछ ऐसे सेट करता है कि उसे अपने जिंदगी में परेशानी, बीमारी और तंगी का सामना करना पड़ता है।
वहीँ दूसरी तरफ अगर वो सोचता है कि वो खुशहाल है, सेहतमंद है और उसके पास खूब पैसे हैं तो LOA कि वजह से असल जिंदगी में भी उसे खुशहाली, अच्छी सेहत और समृद्धि देखने को मिलती है।

🍁“हम जो सोचते हैं, वो बन जाते हैं”

-भगवान गौतम बुद्ध

🍁“हम वो हैं जो हमें हमारी सोच ने बनाया है, इसलिए इस बात का ध्यान रखिये कि आप क्या सोचते हैं. शब्द गौण हैं. विचार रहते हैं, वे दूर तक यात्रा करते हैं”

-स्वामी विवेकानंद

जो लोग LOA मानते हैं वे समझते हैं कि पॉजिटिव सोचना कितना ज़रूरी है…वे जानते हैं कि हर एक नेगेटिव थॉट हमारी लाइफ को पोसिटीविटी से दूर ले जाती है और हर एक पॉजिटिव थॉट लाइफ में खुशियां लाती है।

🍁और किसी ने कहा भी है, ”अगर इंसान जानता कि उसकी सोच कितनी पावरफुल है तो वो कभी निगेटिव नहीं सोचता !”

पर क्या हमेशा पॉजिटिव सोचना संभव है ?

यहीं पर काम आते हैं हमारे लेकिन, किन्तु, परन्तु…

दोस्तों, वैसे तो ये शब्द ज्यादातर नेगेटिव कॉन्टेक्स्ट में यूज़ होते हैं ..

eg :–  आप लोगों को कहते सुन सकते हैं :
— मैं सफल हो जाता लेकिन…
— सब सही चल रहा था किन्तु…etc

पर हम इन शब्दों का प्रयोग नेगेटिव सेंटेंस के अंत में करके उन्हें ➡ पॉजिटिव में कन्वर्ट कर सकते हैं।

🍁कुछ examples से समझते हैं :—

जैसे ही आपके मन में विचार आये, “दुनिया बहुत बुरी है ” तो आप इतना कह कर या सोच कर रुके नहीं,
तुरंत रेअलाइज करें कि आपने एक नेगेटिव सेंटेंस बोला है इसलिए तुरंत अलर्ट हो जाएं ..
और सेंटेंस को कुछ ऐसे पूरा करें—-
”दुनिया बहुत बुरी है, लेकिन अब चीजें बदल रही हैं, बहुत से अच्छे लोग समाज में अच्छाई का बीज बो रहे हैं और सब ठीक हो रहा है “

🍁कुछ और एक्साम्प्ल देखते हैं :–
👉मैं पढ़ने में कमजोर हूँ,
लेकिन अब मैंने मेहनत शुरू कर दी है और जल्द ही मैं पढ़ाई में भी अच्छा हो जाऊँगा।

👉मेरा बॉस बहुत #%$% है,
पर धीरे -धीरे वो बदल रहे हैं और उनको ज्ञान भी बहुत है, मुझे काफी कुछ सीखने को मिलता है उनसे।

👉मेरे पास पैसे नहीं हैं,
लेकिन मुझे पता है मेरे पास बहुत पैसा आने वाला है, इतना कि न मैं सिर्फ अपने बल्कि अपने अपनों के भी सपने पूरे कर सकूँ।

👉मेरे साथ हमेशा बुरा होता है,
लेकिन मैं देख रहा हूँ कि पिछले कुछ दिनों से सब अच्छा अच्छा ही हो रहा है, और आगे भी होगा।

👉मेरे बच्चे की शादी नहीं हो रही,
परंतु अब मौसम शादीयों का है, भाग्य ने उसके लिए बहुत ही बेहतरीन रिश्ता सोच रखा होगा, जो जल्द ही तय होगा।

यहाँ सबसे महत्वपूर्ण बात है ये रियलाइज करना कि कब आपके मन में एक नेगेटिव थॉट आई है और तुरंत अलर्ट हो कर …
इसे “लेकिन” लगा कर पॉजिटिव में कन्वर्ट कर देना

और ये आपको सिर्फ तब नहीं करना जब आप किसी के सामने बात कर रहे हो।

सबसे अधिक तो आपको ये अकेले रहते हुए अपने साथ करना है, आपको अपनी सोच पर ध्यान देना है, अवेयर रहना है कि आपकी थॉट्स पॉजिटिव हैं या थॉट्स ??

और जैसे ही नेगेटिव थॉट आये आपको तुरंत उसे पॉजिटिव में मोल्ड कर देना है।

और एक चीज आप इस बात की चिंता ना करें की आपने ‘लेकिन‘ के बाद जो लाइन जोड़ी है वो सही है या गलत,

आपको तो बस एक सकारात्मक वाक्य जोड़ना है, और आपका सुबकोंशीयस माइंड उसे ही सही मानेगा और ब्रह्माण्ड आपके जीवन में वैसे ही अनुभव प्रस्तुत करेगा !

🌹ये तो आसान लग रहा है !!
हो सकता है ये आपको बड़ा सिंपल लगे, कुछ लोगों के लिए वाकई में हो भी, पर मैक्सिमम लोगों के लिए थॉट्स को कण्ट्रोल करना और उनके प्रति अवेयर रहना चैलेंजिंग होता है।

इसलिए अगर आप इस तरीके को प्रैक्टिस करते वक़्त कई बार नेगेटिव थॉट्स को मिस भी कर जाते हैं तो नो नीड टु वोरी…

जैसे तमाम चीजों को प्रैक्टिस से सही किया जा सकता ह         थॉट्स को भी प्रैक्टिस से पाजिटिविटी में मोल्ड करें

🙈🙉🙊जीवन जीने की कला🙊🙉🙈

Advertisements